Follow nationalizer on WordPress.com

Hum Kare rashtra aaradhan

Chanakya__Hum_Kare_Rashtra_Aradhan.mp3
this song from the serial CHANAKYA inspired me so much, thanks to all those who introduced me that song, i will try my level best to make this song as much popular as i can, please do help me in this mission,..

हम करें राष्ट्र आराधना
तन से मन से धन से
तन मन धन जीवनसे
हम करें राष्ट्र आराधना………………।।…धृ
अन्तर से मुख से कृती से
निश्र्चल हो निर्मल मति से
श्रध्धा से मस्तक नत से
हम करें राष्ट्र अभिवादन…………………। १
अपने हंसते शैशव से
अपने खिलते यौवन से
प्रौढता पूर्ण जीवन से
हम करें राष्ट्र का अर्चन……………………।२
अपने अतीत को पढकर
अपना ईतिहास उलटकर
अपना भवितव्य समझकर
हम करें राष्ट्र का चिंतन…।………………।३
है याद हमें युग युग की जलती अनेक घटनायें
जो मां के सेवा पथ पर आई बनकर विपदायें
हमने अभिषेक किया था जननी का अरिशोणित से
हमने शृंगार किया था माता का अरिमुंडो से
हमने ही ऊसे दिया था सांस्कृतिक उच्च सिंहासन
मां जिस पर बैठी सुख से करती थी जग का शासन
अब काल चक्र की गति से वह टूट गया सिंहासन
अपना तन मन धन देकर हम करें पुन: संस्थापन (राष्ट्र आराधना )………………।४

हम करें राष्ट आराधना
We worship our nation

तन से मन से धन से
With body mind and wealth
तन मन धन जीवनसे
With body,mind,wealth and our life
हम करें राष्ट आराधना………………।।…धृ
We worship our nation

अन्तर से मुख से कृती से
From our soul,mouth, actions
निश्र्चल हो निर्मल मति से
With pure and steady mind
श्रध्धा से मस्तक नत से
With great reverence ,we bow to you
हम करें राष्ट अभिवादन…………………। १
We salute our nation

अपने हंसते शैशव से
With our happy childhood
अपने खिलते यौवन से
With our blooming youth
प्रौढता पूर्ण जीवन से
With our entire life
हम करें राष्ट का अर्चन……………………।२
We dedicate ourself to the nation

अपने अतीत को पढकर
By studying our glorious past
अपना ईतिहास उलटकर
By turning pages of history
अपना भवितव्य समझकर
by realising our strength
हम करें राष्ट का चिंतन…।………………।३
we think about our nation

है याद हमें युग युग की जलती अनेक घटनायें
We remember many burning incidents of past
जो मां के सेवा पथ पर आई बनकर विपदायें
About those who came as obstacles to us
हमने अभिषेक किया था जननी का अरिशोणित से
We had bathed our mother with their blood
हमने शृंगार किया था माता का अरिमुंडो से
We have adorned our mother with their foreheads
हमने ही ऊसे दिया था सांस्कृतिक उच्च सिंहासन
We have given our mother the queenly throne with our unique culture
मां जिस पर बैठी सुख से करती थी जग का शासन
Our mother happily sat on it and once ruled the world
अब काल चक्र की गति से वह टूट गया सिंहासन
Due to the pranks of time, she lost the throne
अपना तन मन धन देकर हम करें पुन: संस्थापन………………।४
With our body,mind and wealth we will re gain that throne.

Advertisements

2 Comments on “Hum Kare rashtra aaradhan”

  1. abaks says:

    i have watched full series 32 hrs non stop….every one should watch this n2 know wat is unity….


Your views please...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s